31.6 C
New Delhi
Monday, May 17, 2021

IPL में आज CSK Vs पंजाब किंग्स: धोनी की टीम पर लगातार दूसरी हार का खतरा, वानखेड़े में जमकर बोलता है केएल राहुल का बल्ला

- Advertisement -
- Advertisement -

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

IPL में आज CSK Vs पंजाब किंग्सएक दिन पहले

इंडियन प्रीमियर लीग (IPL-2021) के आठवें मैच में दो विकेटकीपर की कप्तानी वाली टीमों चेन्नई सुपर किंग्स और पंजाब किंग्स के बीच मुकाबला होगा। चेन्नई को पहले मैच में दिल्ली के खिलाफ हार झेलनी पड़ी थी। वहीं, पंजाब ने राजस्थान के खिलाफ अपना पहला मैच 4 रन से जीता था। मुकाबला उसी वानखेड़े स्टेडियम में है जहां चेन्नई को हार और पंजाब को जीत मिली थी।

पावर हिटिंग न कर पाना चेन्नई की समस्या
CSK ने अपना टीम कॉम्बिनेशन चेपॉक स्टेडियम की धीमी पिच के हिसाब तैयार किया है, लेकिन इस सीजन में होम ग्राउंड पर मैच न होने से धोनी की टीम थोड़ी मुश्किल में दिख रही है। वानखेड़े की पिच आम तौर पर बल्लेबाजों के अनुकूल होती है और उसके लिहाज से चेन्नई की बल्लेबाजी थोड़ी धीमी पड़ जाती है। 2020 में भी UAE में बल्लेबाजी के लिए मददगार पिचों पर CSK की टीम संघर्ष करती दिखी थी। दूसरी ओर पंजाब की टीम के लिए इस तरह की कोई समस्या नहीं है। पंजाब का टॉप ऑर्डर काफी खतरनाक है। कप्तान राहुल के अलावा मयंक अग्रवाल, क्रिस गेल और निकोलस पूरन टॉप-4 में बल्लेबाजी के लिए आते हैं।

गेंदबाजी में दोनों टीम की अलग-अलग समस्या
गेंदबाजी के मोर्चे पर दोनों ही टीमों की अपनी-अपनी समस्याएं हैं। सपाट पिचों पर रफ्तार वाले गेंदबाज की जरूरत होती है, लेकिन चेन्नई के अधिकांश मीडियम पेसर 125-130 किलोमीटर की रफ्तार वाले हैं। वहीं, पंजाब के विदेशी गेंदबाज भारतीय पिचों के हिसाब से लेंथ एडजस्ट नहीं कर पाए हैं। रिले मेरिडिथ और जे रिचर्डसन दोनों ही राजस्थान के खिलाफ मैच में संघर्ष करते दिखे थे।

वानखेड़े के सुपरस्टार हैं राहुल
पंजाब के कप्तान केएल राहुल को वानखेड़े स्टेडियम की पिच बहुत भाती है। उन्होंने यहां पिछली 4 टी-20 पारियों में 91, 91, 100* और 94 रनों की पारी खेली है। यहां कुल 7 टी-20 पारियों में राहुल ने 71.33 की औसत से 428 रन बनाए हैं और उनका स्ट्राइक रेट 152.85 का रहा है।

तेज गेंदबाजों का दबदबा
IPL के इस सीजन में वानखेडे़ में हुए 3 मैचों में फास्ट बॉलर्स ने 34 विकेट लिए हैं। लिहाजा एक बार फिर टीमों का भरोसा तेज गेंदबाजी पर ही हो सकता है।

खबरें और भी हैं…
Latest news
- Advertisement -
Related news
- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here